Follow us on
Tuesday, February 18, 2020
India

निर्भया मामला: न्यायालय ने अलग-अलग फांसी देने की केन्द्र की याचिका पर दोषियों से मांगा जवाब

February 14, 2020 07:26 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - उच्चतम न्यायालय ने निर्भया मामले के दोषियों को अलग-अलग फांसी देने के अनुरोध वाली केन्द्र की याचिका पर सुनवाई शुक्रवार तक स्थगित करते हुए दोषियों से इस पर जवाब तलब किया। शीर्ष अदालत ने निर्भया मामले के दोषियों से कहा कि वे अलग-अलग फांसी देने का अनुरोध कर रही केन्द्र की याचिका पर शुक्रवार तक जवाब दाखिर करें।

न्यायमूर्ति आर. भानुमति, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना की पीठ ने दोषी पवन गुप्ता के प्रतिनिधित्व के लिए गुरुवार को वरिष्ठ वकील अंजना प्रकाश को न्याय मित्र नियुक्त किया। पीठ ने कहा कि वह मामले की सुनवाई शुक्रवार दोपहर दो बजे तक स्थगित कर रही है क्योंकि दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (डीएलएसए) को निर्देश दिया कि वह अपने पैनल में शामिल वकीलों की एक सूची पवन के पिता को उपलब्ध कराए।

गुप्ता के पिता ने कल अदालत से अनुरोध किया था कि फिलहाल उनके बेटे के पास कोई वकील नहीं है, इस पर न्यायाधीश ने उसे जिला विधिक सेवा प्राधिकार (डीएलएसए) से एक वकील मुहैया कराने की पेशकश की थी। निर्भया मामले के चार दोषियों में से केवल गुप्ता ने ही अभी तक सुधारात्मक याचिका दायर नहीं की है। उसके पास मौत की सजा के खिलाफ दया याचिका दायर करने का भी विकल्प मौजूद है।

गौरतलब है कि 16 दिसंबर, 2012 की रात को दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार और बर्बरता की गयी थी। सिंगापुर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी थी।

Have something to say? Post your comment
 
More India News
वुहान से लौटे 406 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं होने की पुष्टि हुई
हम सीएए और अनुच्छेद 370 से जुड़े अपने फैसलों पर कायम हैं और रहेंगे - प्रधानमंत्री
इस साल राज्यसभा में विपक्षी ताकत होगी कम
बैजल ने दिलायी केजरीवाल मंत्रिमंडल को पद और गोपनीयता की शपथ
भारत सभी धर्मों के शांतिपूर्ण सह अस्तित्व के लिए जाना जाता है - नायडू
शरारती तत्वों से निपटते वक्त दिल्ली पुलिस को संयम बरतना चाहिए - शाह
शाह से मिलने को तैयार शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी, कहा- बातचीत के लिये बुलाना सरकार का दायित्व
नीतिगत दर में कटौती का असर धीरे-धीरे सुधर रहा, ऋण उठाव ने गति पकड़ी - दास
केजरीवाल के शपथ ग्रहण में मंच साझा करेंगे ‘‘दिल्ली निर्माण’’ के लिए जिम्मेदार 50 लोग
मौजूदा सामाजिक समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करें वैज्ञानिक - मोदी