Follow us on
Sunday, March 29, 2020
BREAKING NEWS
Himachal

मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए राजनीतिक दलों से सहयोग का किया आग्रह

March 22, 2020 08:36 AM

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां सभी राजनीतिक पार्टियों की बैठक की अध्यक्षता की। उन्होंने सभी पार्टियों के नेताओं से राज्य में कोराना वायरस को फैलने से रोकने के लिए राज्य सरकार का पूर्ण सहयोग करने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जरूरी वस्तुओं की जमाखोरी और मुनाफाखोरी से सख्ती से निपटा जाएगा। उन्हांेने कहा कि सरकार ने विभिन्न सार्वजनिक उपयोगिता बिलों जैसे बिजली, पानी आदि के भुगतान की तिथि को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के स्थगित करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार उन संदिग्ध व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी, जो पृथकीकरण से बचते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने राज्य में पांच निर्माताओं से अधिक तादाद में सेनेटाईजर बनाने के लिए कहा है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि सभी अध्यापकों को 31 मार्च, 2020 तक स्कूल न आने की छूट दी गई है। उन्होंने कहा कि केवल आपात स्थिति में संबंधित उपायुक्त अध्यापकों की सेवाएं ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जरूरी वस्तुओं का पर्याप्त भण्डारण है। उन्होंने कहा कि डाॅक्टर, पेरा मेडिकल स्टाफ, पुलिस कर्मचारियों और स्वच्छता कर्मचारियों को पर्याप्त स्वच्छता किट्स उपलब्ध करवाई जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश कोरोना वायरस के खतरे से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए, 14 मार्च, 2020 को हिमाचल प्रदेश महामारी (कोविड-19) नियम एवं विनियमों-2020 अधिसूचित करने वाला देश का पहला राज्य है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि इस बीमारी ने विश्व के अधिकतर विकसित देशों में महामारी का रूप ले लिया है। उन्होंने कहा कि अमरीका जैसी महाशक्तियों में भी कोविड-19 के 14 हजार मामले सामने आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले कल तक इससे संबंधित कोई भी पोजिटिव मामला नहीं था। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिला में सामने आए दो मामले चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि इन दोनों मरीजों के सैंपल आगे की जांच और सत्यापन के लिए पुना भेजे गए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य को इस खतरे को फैलने से रोकने के लिए अधिक सतर्क और तैयार रहना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने रोकथाम उपाय के तौर पर 31 मार्च, 2020 तक सभी शिक्षण संस्थानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। इसके अतिरिक्त राज्य में सभी मुख्य मंदिरों को आम जनता के लिए बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में पर्यटकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया है। उन्होंने कहा कि होटल एसोसिएशन ने भी इस मामले में सरकार को अपना पूर्ण सहयोग दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य में धार्मिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और सामाजिक कार्यक्रमों और लोगों की भीड़ जमा होने पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि मास्क और सेनेटाईजर के मूल्यों को निर्धारित किया गया है और इन आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी को सख्ती से निपटा जाएगा। उन्होंने कहा कि लोगों को जागरूक करने के लिए सूचना, सम्पर्क व संप्रेषण पर विशेष बल दिया गया है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि लोगों में घबराहट न फैले।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में मुख्य कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति को कम करने के लिए एक प्रणाली विकसित की जाएगी ताकि इन कार्यालयों में भीड़-भाड़ से बचा जा सके।

जय राम ठाकुर ने राज्य में जनता कफ्र्यू को सफल बनाने के लिए विपक्षी दलों से सहयोग का आग्रह किया ताकि लोगों को 22 मार्च को घर में ही रहने के लिए प्रेरित किया जा सके, जिससे यह वायरस समुदाय में न फैल सके। उन्होंने कहा कि इससे कोविड-19 वायरस के फैलने की श्रृंखला टूट जाएगी। उन्होंने कहा कि जनता कफ्र्यू को ध्यान में रखते हुए सभी प्रकार की बस सेवा तथा सभी अन्तर्राज्यीय वाहनों को 21 मार्च मध्य रात्रि से आगामी आदेशों तक निलम्बित कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थिति की निगरानी के लिए राज्य और जिला नोडल अधिकारियों को नियुक्त किया गया है और हेल्पलाइन-104 चैबीस घण्टे काॅल सेंटर के रूप में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी सरकारी मेडिकल काॅलेजों सहित विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में आइसोलेशन वार्डों की पहचान की गई है, जहां पर्याप्त संख्या में बिस्तरों की क्षमता है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य के तीन मेडिकल काॅलेज आईजीएमसी शिमला, कांगड़ा के टांडा में स्थित डाॅ. राजेन्द्र मेडिकल काॅलेज और नेरचैक मेडिकल काॅलेज को पाॅजिटिव मामलों के उपचार के लिए चिन्हित किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी जिला अस्पतालों और मेडिकल काॅलेजों में एन-95 मास्क सहित व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए गए हैं। उन्होंने आम जनता से आग्रह किया कि वे छोटी बीमारियों के लिए अस्पताल जाने से बचें।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
प्रदेश में 300 पौध संरक्षण केंद्र खुले रहेंगे - मुख्यमंत्री
निजी स्कूलों में फीस जमा कराने की अन्तिम तिथि 30 अपै्रल तक बढ़ाई गई
कफ्र्यू में रोजाना प्रातः 7.00 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक मिलेगी छूट - मुख्यमंत्री
आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं – मुख्यमंत्री
हिमाचल प्रदेश में कफ्र्यू लागू
राज्य सरकार ने पूरे प्रदेश के लिए जारी की लाकडाउन की अधिसूचना
21 मार्च मध्यरात्रि से एचआरटीसी व निजी बसों के संचालन में की जाएगी 50 प्रतिशत की कमी
हिमाचल में घरेलू व विदेशी पर्यटकों के प्रवेश पर प्रतिबन्ध
केंद्र सरकार ने हिमाचल के लिए एनडीआरएफ की एक बटालियन स्वीकृत की
एचआरटीसी चालकों का बढ़ेगा वेतन, पेंशनधारकों को मिलेगी अंतरिम राहत