Follow us on
Monday, June 01, 2020
BREAKING NEWS
कोविड-19: भारत सातवां सर्वाधिक प्रभावित देशकोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं - प्रधानमंत्री मोदीपाकिस्तान ने पुंछ में नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में गोलाबारी की, एक व्यक्ति घायलट्रम्प ने जी 7 सम्मेलन टाला, भारत समेत अन्य देशों को करना चाहते हैं शामिलखिलाड़़ियों के लिये चार्टर्ड विमान, कोविड परीक्षण जैसी योजनाएं बना रहा है यूएस ओपनकर्जमुक्त कंपनी बनने के लक्ष्य की ओर अग्रसर है रिलायंस - रिपोर्टदुनिया के 213 देशों में अबतक 62 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित, 3 लाख 73 हजार की मौतमशहूर संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद के वाजिद खान का मुम्बई में निधन
World

कोरोना संक्रमण में दुनिया का सबसे बड़ा केंद्र बना अमेरिका, चीन और इटली को पीछे छोड़ा

March 28, 2020 08:12 AM

वाशिंगटन - सुपर पावर अमेरिका चीन और इटली को पीछे छोड़ते हुए कोरोना से संक्रमितों मरीजों के मामले में सबसे आगे निकल गया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के तमाम दावे के बाद भी अमेरिका इस महामारी पर काबू करने में बुरी तरह से असफल दिखाई दे रहा है. कोरोना महामारी जंगल की आग की तरह से पूरे अमेरिका को अपने चपेट में लेती जा रही है.

अमेरिका में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 85,390 पहुंच गई, जो इस महामारी के गढ़ चीन से भी ज्यादा है. अमेरिका में अब तक 1200 से ज्यादा लोग इस महमारी की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं. अमेरिका के बाद चीन का नंबर है, जहां पर कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 81,340 और इसके बाद इटली है जहां 80,589 लोग संक्रमित हैं. भारत में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 700 को पार कर गई है जबकि 20 लोग इस महमारी से मारे गए हैं.

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने पहले ही चेतावनी दी थी कि अमेरिका कोरोना का सबसे बड़ा गढ़ बन सकता है. दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी आबादी वाला देश अमेरिका इस महामारी का सबसे बड़ा शिकार हो सकता है. 33 करोड़ की आबादी वाले अमेरिका में कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है. अमेरिका के न्यूयॉर्क में गुरुवार को एक दिन में 100 मौतें कोरोना के कारण चली गईं. इसके साथ ही यहां मरने वालों की कुल संख्या 1295 हो गई है.

अकेले न्यूयॉर्क में कोरोना की चपेट में आने से 385 लोगों की मौत हो चुकी है. पूरे देश की बात करें तो यहां 74,573 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि सिर्फ 46 ही इलाज के बाद ठीक हो सके. न्यूयॉर्क में कोरोना के 37,258 मामले सामने आ चुके हैं. यहां हालात कितने बुरे हैं, इसकी झलक न्यूयॉर्क के गवर्नर ऐंड्रू काओमो के बयान में मिलती है.

उन्होंने ट्रंप सरकार पर नाराजगी जताते हुए इस बात का खुलासा किया है कि हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर की हालत कितनी खराब है. न्यूयॉर्क में हालात इतने खराब हो चुके हैं कि यहां जरूरत के मुताबिक न तो बेड हैं और न ही इलाज करने के लिए स्टाफ. ऐंड्रू ने बताया कि रिटायर हो चुके मेडिकल स्टाफ को मदद के लिए बुलाया गया है. उन्होंने संसाधनों की मांग की है. काओमो ने बताया कि न्यूयॉर्क में 30,000 वेंटिलेटर्स की जरूरत है, लेकिन सिर्फ 400 भेजे गए.

Have something to say? Post your comment
 
More World News
ट्रम्प ने जी 7 सम्मेलन टाला, भारत समेत अन्य देशों को करना चाहते हैं शामिल दुनिया के 213 देशों में अबतक 62 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित, 3 लाख 73 हजार की मौत मिनेसोटा के गवर्नर ने सीएनएन पत्रकार की गिरफ्तारी के लिए मांगी माफी चीन ने भारत के साथ सीमा गतिरोध में मध्यस्थता के ट्रम्प के प्रस्ताव को किया खारिज फ्रांस से आए एयरबस के विशेषज्ञों ने पाकिस्तान विमान हादसे की जांच शुरू की कोरोना वायरस के कारण उजागर हुआ चीन का चरित्र - अमेरिकी विदेश मंत्री चीन में कोरोना वायरस के 39 नए मामले पाकिस्तान विमान हादसे में 97 लोगों की मौत, दो लोग चमत्कारिक रूप से बचे चक्रवात अम्फान को ऐला से कहीं अधिक विनाशकारी माना जा रहा है - संरा व्हाइट हाउस ने चीन की दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों पर साधा निशाना