Follow us on
Sunday, June 07, 2020
Feature

बच्चों के लिए गाय या भैंस कौन सा दूध है बेहतर

May 18, 2020 06:51 AM

घर पर नन्हें मेहमान के आने के साथ ही परिवार का हर सदस्य उसे अच्छी परवरिश और खुराक देने में जुट जाता है। ऐसी ही एक कोशिश के चलते एक सवाल जो हर व्यक्ति को परेशान करता है वो है, बच्चे की अच्छी सेहत के लिए गाय या भैंस, किसका दूध बेहतर विकल्प है। अगर आपके मन को भी यही सवाल परेशान करता है तो अब परेशान होना छोड़ दीजिए। आइए जानते हैं बच्चे के विकास और सेहत के लिए कौन सा दूध सबसे बेहतर है और किस उम्र के व्यक्ति को कौन सा दूध कितनी मात्रा में पीने से लाभ मिलता है।

आपको सुनकर हैरानी होगी कि छोटे बच्चों के लिए गाय और भैंस के दूध से भी ज्यादा फायदेमंद पाउडर मिल्क होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि गाय या भैंस के दूध में मिलावट की गुंजाइश बनी रहती है। लेकिन यदि आप अपने सामने गाय या भैंस का दूध निकलवाकर लाते हैं तो आप बच्चे को यह दूध पीला सकते हैं। बच्चों के लिए कहा जाता है कि गाय का दूध ज्यादा बेहतर होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि भैंस के दूध में गाय के दूध के मुकाबले ज्यादा फैट होता है। गाय के 100 मिली दूध में करीब 65-70 कैलरी होती है, जोकि मां के दूध जितनी ही है। इसके अलावा गाय के दूध में फैट भी कम होता है। भैंस के 100 मिली दूध में 117 कैलरी होती है।

डॉक्टरों की मानें तो दूध एक कंप्लीट फूड डाइट है। दूध में ज्यादातर सारे जरूरी प्रोटीन और अमीनो एसिड्स पाए जाते हैं। आइए जानते हैं किस उम्र के व्यक्ति को कितना दूध पीना चाहिए।

-1 से 2 साल के बच्चों के दिमागी विकास को बेहतर बनाने के लिए उन्हें ज्यादा फैट वाली डाइट की जरूरत होती है, इसलिए उन्हें फुल क्रीम मिल्क देना चाहिए। इसके लिए उन्हें रोजाना दिन में 3-4 कप दूध (करीब 800-900 मिली) पीना जरूरी है।

-2 से 3 साल के बच्चों को रोजाना दो कप दूध या दूध से बनी चीजें देनी चाहिए।

- 4-8 साल की उम्र के बच्चों को ढाई कप दूध और दूध से बनी चीजों जैसे- पनीर, दही आदि रोजाना देना जरूरी है।

-9 साल से ज्यादा के बच्चों को रोजाना करीब 3 कप दूध या दूध से बने हुए उत्पाद जैसे- दही, पनीर आदि देना चाहिए।

किस रोग से पीड़ित व्यक्ति को कौन सा दूध पीना चाहिए-

-मोटापे से ग्रस्त लोगों को भैंस के दूध का सेवन करने से परहेज करना चाहिए और कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को गाय के दूध से परहेज करना चाहिए।

-कोलेस्ट्रॉल और फैट से बचने के लिए टोंड या डबल टोंड दूध पीना बेहतर है।

दूध के रंग, स्वाद और गाढ़ेपन से उसकी अच्छी बुरी क्वॉलिटी की पहचान की जा सकती है। अगर इनमें कुछ असामान्यता नजर आए तो दूध में मिलावट हो सकती है। दूध में मिलावट देखने के लिए आप उसमें अपनी एक उंगली डाल कर भी देख सकते हैं। अगर दूध में ज्यादा मात्रा में पानी होगा तो वह ऊपर की तरफ आ जाएगा।

Have something to say? Post your comment