Follow us on
Monday, June 01, 2020
BREAKING NEWS
कोविड-19: भारत सातवां सर्वाधिक प्रभावित देशकोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं - प्रधानमंत्री मोदीपाकिस्तान ने पुंछ में नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में गोलाबारी की, एक व्यक्ति घायलट्रम्प ने जी 7 सम्मेलन टाला, भारत समेत अन्य देशों को करना चाहते हैं शामिलखिलाड़़ियों के लिये चार्टर्ड विमान, कोविड परीक्षण जैसी योजनाएं बना रहा है यूएस ओपनकर्जमुक्त कंपनी बनने के लक्ष्य की ओर अग्रसर है रिलायंस - रिपोर्टदुनिया के 213 देशों में अबतक 62 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित, 3 लाख 73 हजार की मौतमशहूर संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद के वाजिद खान का मुम्बई में निधन
India

यातना शिविर में तब्दील हो चुके हैं क्वारंटीन सेंटर्स - अखिलेश

May 23, 2020 07:22 AM

लखनऊ - उत्तर प्रदेश में क्वारंटीन सेन्टर्स के ‘यातना शिविर‘ में तब्दील होने का आरोप लगाते हुये समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ने के बावजूद सरकार प्रदेश की करोड़ों जनता को उसके भाग्य के भरोसे छोड़कर राजसुख भोगने में मग्न हो गई है।

यादव ने कहा कि कोरोना संकट के प्रति प्रशासन तंत्र ने उदासीनता का रवैया अपना लिया है। भाजपा सरकार की संकट से निबटने की इच्छाशक्ति भी कमजोर हो चली है। अब न तो कोई श्रमिकों की सुरक्षित और सम्मानित ढंग से वापसी में रूचि ले रहा है और न ही नागरिकों की जिंदगी-मौत के प्रति संवेदना जता रहा है।

उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री जांच और क्वारंटीन स्थलों के बारे में बड़े-बड़े दावे करते हैं लेकिन सच यह हैं कि अब क्वारंटीन सेन्टर्स लोगों के लिए ‘यातना शिविर‘ में तब्दील हो गए है। इनकी हालत बेहद दयनीय है। अधिकारियों ने तालाबो, पोखरों और उजाड़ जगहों में क्वारंटीन किए जाने वाले श्रमिकों को पशुओं से भी बुरी दशा में रखा जा रहा है। भाजपा सरकार इसे ही फाइव स्टार व्यवस्था बता रही है जिसके विरोध में कई जगह डाक्टर, नर्स और श्रमिक भी प्रदर्शन कर चुके हैं।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना वायरस की बीमारी से लड़ने पर जो व्यय हुआ है उसका ब्यौरा सार्वजनिक होना चाहिए। जनता को यह जानने का अधिकार है कि खर्च कहाँ हुआ। सरकार की बदइंतजामी और घोर लापरवाही का इससे बड़ा नमूना और क्या होगा कि वीवीआईपी जिले गोरखपुर के सहजनवां ब्लाक में क्वारंटीन सेन्टर में एक प्रवासी श्रमिक के बिस्तर में सांप घुस गया। श्रमिक की किस्मत अच्छी थी कि वह जिंदा बच गया। कुछ दिन पहले गोण्डा में एक स्कूल के अंदर बने क्वारंटीन सेन्टर में 16 साल के एक लड़के को सांप काटने से मौत हो गई। इन सेन्टरों में घटिया खाना, दिये जाने के साथ वहां तैनात स्टाफ को समय से हाजिर न होने की भी शिकायतें आम है।

उन्होने कहा कि श्रमिकों का संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है यह अस्तित्व की लड़ाई है तथा लम्बे समय तक संघर्ष जारी रहने वाला है। सरकार चालाकी से बसों की बहस चलाये रखना चाहती है जबकि बसों का विवाद निरर्थक है। इसे बस करना चाहिए, हजारों श्रमिक दूसरें राज्यों और सीमाओं में अभी भी फंसे हुए है। उनके बारे में उत्तर प्रदेश की सरकार संवेदनशील नहीं है।

Have something to say? Post your comment
 
More India News
कोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं - प्रधानमंत्री मोदी पाकिस्तान ने पुंछ में नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में गोलाबारी की, एक व्यक्ति घायल मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, अगले 48 घंटे में चक्रवाती तूफान दे सकता है दस्तक नेपाल की संसद में विवादित नक्शे से जुड़ा संशोधन विधेयक हुआ पेश कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं - मोदी कोविड-19 : देश में एक दिन में रिकार्ड 265 लोगों की मौत एवं 7,964 नए मामले बीस लाख करोड़ रूपये का पैकेज आत्मनिर्भर भारत की दिशा में बड़ा कदम - मोदी 8 जून से अनलॉक होगा देश लेकिन करना होगा इन नियमों का पालन, नये दिशा-निर्देश जारी केरल में दो दिन पहले पहुंचा मानसून, स्काईमेट के एलान पर मौसम विभाग का इनकार