Follow us on
Monday, June 01, 2020
BREAKING NEWS
कोविड-19: भारत सातवां सर्वाधिक प्रभावित देशकोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं - प्रधानमंत्री मोदीपाकिस्तान ने पुंछ में नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में गोलाबारी की, एक व्यक्ति घायलट्रम्प ने जी 7 सम्मेलन टाला, भारत समेत अन्य देशों को करना चाहते हैं शामिलखिलाड़़ियों के लिये चार्टर्ड विमान, कोविड परीक्षण जैसी योजनाएं बना रहा है यूएस ओपनकर्जमुक्त कंपनी बनने के लक्ष्य की ओर अग्रसर है रिलायंस - रिपोर्टदुनिया के 213 देशों में अबतक 62 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित, 3 लाख 73 हजार की मौतमशहूर संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद के वाजिद खान का मुम्बई में निधन
Politics

कोरोना संकट पर 22 दलों ने 4 घंटे की मीटिंग, लॉकडाउन पर मोदी सरकार को घेरा

May 23, 2020 07:30 AM

विपक्षी दलों ने कोरोना वायरस के संकट पर शुक्रवार को केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की. साथ ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई बैठक में केंद्र सरकार से अम्फान को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की गई. सोनिया गांधी ने बैठक की शुरुआत करने के साथ ही कोरोना संकट को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि इस महामारी से अर्थव्यवस्था को गंभीर झटका लगा है. प्रतिष्ठित अर्थशास्त्रियों ने बड़े पैमाने पर राजकोषीय प्रोत्साहन दिए जाने की तत्काल आवश्यकता की सलाह दी थी. प्रधानमंत्री मोदी ने 12 मई को 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया और फिर वित्त मंत्री अगले पांच दिनों तक उसका विवरण देती रहीं. यह देश के साथ एक क्रूर मजाक था.

बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि कोरोना को 21 दिन में खत्म करने की पीएम का दावा धराशायी हुआ. सरकार के पास लॉकडाउन को लेकर कोई प्लान नहीं था. सरकार के पास करोना संकट से बाहर निकलने की कोई नीति नहीं थी. लगातार लॉकडाउन का कोई फायदा नहीं हुआ, नतीजे खराब ही निकले. कोरोना टेस्ट और पीपीई किट के मोर्चे पर भी सरकार विफल रही. अर्थव्यवस्था चरमरा गई, लॉकडाउन के नाम पर क्रूर मज़ाक हुआ. सारी शक्तियां पीएमओ के पास हैं, वो कर्मचारियों और कंपनियों के हितों की सुरक्षा करें.

बैठक को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, झारखंड के मुख्यमंत्री और झामुमो नेता हेमंत सोरेन, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और द्रमुक नेता एम के स्टालिन ने भी संबोधित किया.

ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना संकट में केंद्र सरकार राज्यों की ठीक से मदद नहीं कर रही है. वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि सभी विपक्षी दलों को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि महाराष्ट्र में बीजेपी कैसा बर्ताव कर रही है. राज्य इसके बावजूद केंद्र के साथ समन्वय स्थापित कर काम कर रहा है. वहीं बीजेपी कोरोना संकट में आंदोलन पर उतारू है.

राहुल गांधी ने केंद्र के रवैये पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन करते वक्त किसी से सलाह नहीं ली गई. उद्योगपतियों से कोई चर्चा नहीं की गई. श्रमिकों के मुद्दे पर राजनीतिक दलों से कोई चर्चा नहीं की गई. राहुल गांधी ने कहा, 'एक आदमी के मन में आया और लॉकडाउन कर दिया.'

माकपा के सीताराम येचुरी ने बताया कि 22 दलों ने साढ़े चार घंटे तक कोरोना संकट के मुद्दे पर चर्चा की. बैठक का मुख्य एजेंडा था कि कोरोना महामारी पर कैसे काबू पाया जाए और प्रभावित लोगों तक कैसे मदद पहुंचाई जाए.

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
कोविड-19: भारत सातवां सर्वाधिक प्रभावित देश मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला साल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा - शाह चीन के साथ सीमा पर हालात के बारे में देश को अवगत कराए सरकार - राहुल महाराष्ट्र में कोरोना से पिछले 24 घंटों में 85 की मौत, 22 पुलिसकर्मी भी शामिल पश्चिम बंगाल में स्कूल 30 जून तक रहेंगे बंद प्रवासी मजदूरों के मामले में सुप्रीम कोर्ट का केंद्र और सभी राज्यों को नोटिस, कहा- मुफ्त में करें मदद कोविड-19 :मरीजों की संख्या बेतहाशा बढ़ने की आशंका, 13000 बिस्तरों की तैयारी में जुटा इंदौर प्रशासन अचानक लॉकडाउन लागू करना गलत था - ठाकरे आईसीएमआर ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल पर संशोधित परामर्श किया जारी लौट रहे प्रवासी हमारे भाई-बंधु हैं, खुले दिल से उनका स्वागत करेंगे - शिवराज सिंह चौहान