Follow us on
Wednesday, October 21, 2020
Business

दिल्ली में डीजल 80 रुपये प्रति लीटर के पार, लगातार 19वें दिन बढ़े दाम

June 26, 2020 10:24 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में डीजल के दाम 80 रुपये प्रति लीटर को पार कर गए हैं। पहली बार डीजल 80 रुपये प्रति लीटर के पार हुआ है। पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने बृहस्पतिवार को डीजल की कीमतों में 14 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की। डीजल कीमतों में लगातार 19वें दिन बढ़ोतरी की गई है। इस तरह 19 दिन में डीजल 10.63 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है।

इसी तरह पेट्रोल के दाम 16 पैसे प्रति लीटर बढ़ाए गए हैं। हालांकि, बुधवार को पेट्रोल कीमतों में वृद्धि नहीं हुई थी। इस तरह तीन सप्ताह से भी कम समय में पेट्रोल 8.66 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। पेट्रोलियम विपणन कंपनियों की मूल्य को लेकर अधिसूचना के अनुसार दिल्ली में पेट्रोल का दाम 79.76 रुपये से बढ़कर 79.92 रुपये प्रति लीटर हो गया है। इसी तरह डीजल की कीमत 79.88 रुपये से 80.02 रुपये प्रति लीटर हो गई है। बुधवार को पहली बार दिल्ली में डीजल का दाम पेट्रोल से अधिक हुआ था।

मूल्यवर्धित कर (वैट) की वजह से विभिन्न राज्यों में वाहन ईंधन के दाम अलग-अलग होते हैं। हालांकि, सिर्फ दिल्ली में ही डीजल का दाम पेट्रोल से अधिक है। राज्य सरकार ने पिछले महीने इसपर बिक्रीकर या वैट में बड़ी वृद्धि की थी।

उल्ल्लेखनीय है कि सात जून से पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने बृहस्पतिवार तक लगातार 19 दिन डीजल कीमतों में बढ़ोतरी की है। इससे पहले 82 दिन तक कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई थी। 19 दिन में डीजल कीमतों में 10.63 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। वहीं 18 बार में पेट्रोल के दाम 8.66 रुपये प्रति लीटर बढ़ाए गए हैं।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
महामारी से उबरी चीन की अर्थव्यवस्था, सितंबर तिमाही में 4.9 प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ी भारत के हाथ से निकलने वाली है ईरान की गैस परियोजना टाटा मोटर्स ने यात्री वाहनों के ऋण के लिये एचडीएफसी बैंक के साथ गठजोड़ किया खरीफ खाद्यान्न उत्पादन 2020-21 में रिकॉर्ड 1,445.2 लाख टन रहने का अनुमान - मंत्री भारत को लोगों की सुरक्षा, स्वास्थ्य पर प्रमुखता से ध्यान देना चाहिए - आईएमएफ सही नीतियों से कोरोना वायरस संकट से उबर सकती है भारतीय अर्थव्यवस्था - आईएमएफ अधिकारी भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए कई मोर्चों पर काम कर रही है सरकार - अमिताभ कांत राज्यों को पूंजीगत परियोजनाओं के लिए 12,000 करोड़ रुपये का ब्याज-मुक्त कर्ज देगी केन्द्र सरकार शेयर बाजार में तेजी निकट भविष्य में जारी रहेगी - विश्लेषक रिजर्व बैंक ने नीतिगत दर में कोई बदलाव नहीं किया, पर नरम रुख बरकरार