Follow us on
Wednesday, September 30, 2020
Politics

बोर्ड परीक्षा रद्द लेकिन सवाल अब भी मौजूद

June 26, 2020 10:31 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - कोरोना वायरस महामारी को देखते हुये लंबित परीक्षाओं को रद्द करने के सीबीएसई के निर्णय के बाजवूद छात्रों की चिंता कम नहीं हुयी है, जिनका कहना है कि उन्हें नहीं पता कि आगे क्या होगा और यह किस प्रकार उनके नामांकन, आगे की शिक्षा एवं करियर को प्रभावित करेगा ।

सीबीएसई की घोषणा के बावजूद छात्रों के मन मे सवाल है, कि क्या परीक्षा पूरी तरह रद्द हो चुकी है, या इसे वैकल्पिक बनाया गया है । आंतरिक मूल्यांकन के मानदंड क्या होंगे? इस कदम से स्नातक स्तर पर नामांकन पर क्या प्रभाव होगा ? आदि आदि ।

कक्षा बारहवीं के छात्र रोमेश झा ने कहा, ‘‘ इसमें स्पष्टता नहीं है। ’’ इसी कक्षा की श्रुति दास ने कहा, ‘‘ किन तीन अंतिम परीक्षाओं की वे बात कर रहे हैं? वे औसत का निर्धारण कैसे करेंगे ।’’ ये सवाल छात्रों के जेहन में हंप जिससे वे चिंचित हैं । इन छात्रों की बोर्ड परीक्षा कोविड—19 के कारण मार्च में रद्द कर दी गयी थी और जो जुलाई में होना था ।

हालांकि, उच्चतम न्यायालय को गुरूवार को यह बताया गया कि सीबीएसई एवं आईसीएसई बोर्ड की 10 वीं एवं 12 वीं कक्षा की लंबित बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गयी है । सीबीएसई बोर्ड ने इस संबंध में कोई अधिसूचना जारी नहीं की है लेकिन शीर्ष न्यायालय ने बोर्ड को शुक्रवार तक मामले में हलफनामा दायर करने के लिये कहा है ।

छात्रों ने इस संबंध में एक आनलाइन याचिका भी शुरू की है । उनका कहना है कि यह छात्रों के शैक्षणिक भविष्य के लिहाज से उचित नहीं होगा।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
सुशांत मामले की जांच अलग दिशा में गई - पवार कृषि कानूनों के विरोध में युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने इंडिया गेट पर ट्रैक्टर में आग लगाई देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 60 लाख के करीब पहुंचे, 49 लाख से ज्यादा लोग ठीक हुए मनमोहन की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत - राहुल दशकों तक किसानों से ‘खोखले’ वादे करने वाले अब उन्हीं के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं - मोदी कपिल मिश्रा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई चुनाव लडने के बारे में कोई फैसला नहीं किया है - गुप्तेश्वर पांडेय फिल्म सिटी को लेकर बैठक पर अखिलेश ने किया तंज भारत में 2017 एवं 2018 के दौरान रासुका के तहत 1,200 लोग हिरासत में पिछले 10 वर्ष में सीवर और सेप्टिक टैंकों की सफाई के दौरान 631 लोगों की मौत