Follow us on
Wednesday, September 30, 2020
Punjab

पंजाब की मुख्य सचिव द्वारा डिप्टी कमिश्नरों को राज्य में कोविड की मृत्युदर में कमी लाने की हिदायत

June 29, 2020 06:28 AM

चंडीगढ़ - मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के निर्देशों के तहत कोविड-19 से लोगों की जान बचाने के लिए कड़ाई से ध्यान केंद्रित करने के लिए पंजाब की मुख्य सचिव विनी महाजन ने रविवार को डिप्टी कमिश्नरों से कहा कि राज्य में मृत्यु दर को रोकने के लिए जो भी संभव हो वह कदम उठाए जाएं ताकि 2.4 प्रतिशत की मौजूदा मौतों की संख्या को कम किया जा सके।

उन्होंने कहा कि महामारी के बीच हर पंजाबी के जीवन को बचाने के लिए प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होंने डिप्टी कमिश्नरों को गंभीर रोगियों की विशेष देखभाल करने के साथ-साथ डॉ. केके तलवार की अध्यक्षता वाले प्रांतीय विशेषज्ञ समूह सहित अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय विशेषज्ञों की मदद लेने का भी निर्देश दिया।

मुख्य सचिव के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद उपायुक्तों के साथ अपनी पहली वीडियो कांफ्रेंस की बैठक में घातक बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए राज्य की तैयारियों की समीक्षा करते हुए विनी महाजन ने राज्य में कोविड-19 मामलों की बढ़ती संख्या पर चिंता व्यक्त की और कहा कि यह प्रत्येक डिप्टी कमिश्नर का कर्तव्य है कि वह उचित निगरानी सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रयास करे और साथ ही मृत्यु दर को भी रोके। उन्होंने डिप्टी कमिश्नरों को अधिक से अधिक स्वस्थ हुए रोगियों को उनके घर भेजने हेतु अपनी ओर से पूरा प्रयास करने के लिए भी कहा।

मुख्य सचिव ने डिप्टी कमिश्नरों को निर्देश दिया कि अगर कोविड मरीज अपने खर्च पर निजी अस्पतालों में जाना चाहते हैं तो उन्हें जाने दिया जाए। उन्होंने डिप्टी कमिश्नरों को जरूरत पड़ने पर सरकारी अस्पतालों में मरीजों को अपना स्वयं का भोजन आदि मंगवाने की अनुमति भी देने के लिए कहा।

उन्होंने बताया कि पंजाब सरकार कोरोना जांच क्षमता को प्रति दिन 20,000 तक बढ़ाने के लिए काम कर रही है जिसके लिए हाल ही में चार नई जांच प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी गई है और इनके जल्द ही चालू होने की उम्मीद है। इसके अलावा नए उपकरणों के लिए ऑर्डर जुलाई में दिए जा रहे हैं।

मुख्य सचिव ने कहा कि डिप्टी कमिश्नरों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पंजाब का हर नागरिक मास्क पहने और सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करे। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से बंद स्थानों में बड़े समारोहों से बचना बहुत जरूरी है, और मास्क को ऐसी स्थितियों में हमेशा पहना जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मास्क न पहनना, सामाजिक दूरी नहीं रखना या सार्वजनिक स्थान पर थूकना असामाजिक कार्य है। उन्होंने डिप्टी कमिश्नरों से कहा कि वे हर जिले के लोगों से सतर्क रहने, एहतियाती उपाय करने और स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह का पालन करने के लिए अपील करना जारी रखें।

बैठक के दौरान महसूस किया गया कि कोविड संक्रमित व्यक्तियों से जुड़े भ्रम को दूर करने के लिए ठोस प्रयास किया जाना चाहिए। विनी महाजन ने कहा कि कोविड किसी भी अन्य बीमारी की तरह ही है, जहां लोगों को आराम करने और दो सप्ताह तक दूर रखने की आवश्यकता होती है ताकि संक्रमण न फैले, और यह संदेश राज्य के सभी लोगों तक पहुंच जाना चाहिए।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बैठक में बताया कि राज्य में पीपीई किट और एन-95 मास्क की कोई कमी नहीं है।

डॉ. के.के. तलवार, डॉ. राज बहादुर और डॉ. राजेश कुमार ने भी बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए आवश्यक कदमों संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी साझा की। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य अनुराग अग्रवाल, प्रमुख सचिव वित्त केएपी सिन्हा, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान डी.के. तिवारी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव तेजवीर सिंह, प्रमुख सचिव जल आपूर्ति और स्वच्छता जसप्रीत तलवार और सचिव स्वास्थ्य कुमार राहुल भी मौजूद थे।

Have something to say? Post your comment
 
More Punjab News
पंजाब में अकेले चुनाव लड़ेंगे - सुखबीर बादल भाजपा ने 'गठबंधन धर्म' का उल्लंघन किया - बादल सुखबीर द्वारा हरसिमरत के इस्तीफे को ‘परमाणु बम’ कहने पर कहा, यह तो फुस्स पटाख़ा भी नहीं निकला पंजाब में किसानों का रेल रोको आंदोलन जारी पंजाब मंडी बोर्ड को क्विक ऐप के लिए राष्ट्रीय पी.एस.यू. अवॉर्ड -2020 हासिल कोविड और गर्मी से जूझते किसानों की तस्वीरों से मुख्य मंत्री को केंद्र सरकार का दिल पिघलने की उम्मीद किसान विरोधी कृषि बिलों के खि़लाफ़ आखिऱी दम तक लड़ेगी पंजाब सरकार - मनप्रीत सिंह बादल पंजाब सरकार ने 60 वर्ष से कम आयु के डॉक्टरों की सेवाओं में 1 अक्तूबर से 3 महीने कि वृद्धि की सरल स्टार्टअप रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया से उद्योगों को मिलेगा और बढ़ावा - सुंदर शाम अरोड़ा रबी फसलों पर MSP बढ़ाने पर बोले सीएम अमरिंदर- केंद्र सरकार ने किसानों के साथ किया भद्दा मजाक