Follow us on
Friday, August 14, 2020
Punjab

पंजाब सरकार की तरफ से 22 आई.ए.एस., आई.एफ.एस. और पी.सी.एस. अधिकारी पेशेंट ट्रेकिंग अफ़सर के तौर पर तैनात

July 31, 2020 07:18 AM

चंडीगढ़ - कोविड -19 के हर पॉजिटिव मरीज़ को मानक इलाज मुहैया करवाने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार की तरफ से 22 आई.ए.एस., आई.एफ.एस. और पी.सी.एस. अधिकारियों को कोविड पेशेंट ट्रेकिंग अफ़सर (सी.पी.टी.ओज़) के तौर पर तैनात किया गया है।

इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये पंजाब के मुख्य सचिव विनी महाजन ने बताया कि राज्य में कोविड के अधिक रहे मामलों के मद्देनजऱ राज्य सरकार की तरफ से इन अधिकारियों को सी.पी.टी.ओज़. के तौर पर तैनात किया गया है। यह अधिकारी मरीज़ों के पोजिटिव पाये जाने के समय से इलाज तक उनको ट्रैक करेंगे जिससे जि़ला स्तर पर तालमेल और तेज़ी से प्रतिक्रया को यकीनी बनाया जा सके। यह अधिकारी अपनी मौजूदा ड्यूटियों के अलावा सी.टी.पी.ओज़ के तौर पर अपनी भूमिका निभाएंगे और सम्बन्धित डिप्टी कमिश्नरों को रिपोर्ट करेंगे।

उन्होंने बताया कि मिस पल्लवी, आई.ए.एस, मुख्य प्रशासक अमृतसर विकास अथॉरिटी, आदित्या डचलवाल आई.ए.एस, अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (जनरल) बरनाला, परमवीर सिंह आई.ए.एस, अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (विकास), बठिंडा, मिस. पूनम सिंह, पी.सी.एस, सब डिविजऩल मैजिस्ट्रेट, फरीदकोट, हरभजन सिंह, जि़ला बाल सुरक्षा अफ़सर, फतेहगढ़ साहिब, बरिन्दर सिंह, जि़ला सामाजिक न्याय और सशक्तिकरन अफ़सर, फाजिल्का, कंवरदीप सिंह आई.एफ.एस., सकतार सिंह बल्ल, पी.सी.एस., उप मंडल मैजिस्ट्रेट, गुरदासपुर, बलबीर राज सिंह, पी.सी.एस., कमिशनर म्युंसिपल कारर्पोेशन, हुशियारपुर, मिस. नवनीत कौर बल्ल, पी.सी.एस., अस्टेट अफ़सर जालंधर विकास अथॉरिटी, जालंधर, पवित्र सिंह, पी.सी.एस., उप मंडल मैजिस्ट्रेट, फगवाड़ा, सन्दीप कुमार आई.ए.एस, अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (विकास), लुधियाना, सागर सेतिया, आई.ए.एस, उप मंडल मैजिस्ट्रेट बुढलाडा, कुलदीप कुमार, जि़ला रजिस्ट्रार सहकारी सभाएं, मोगा, गगनदीप सिंह, पी.सी.एस., अतिरिक्त सहायक कमिशनर (सिखलाई अधीन), मुक्तसर साहिब, मिस. निधी कुमुद बांबाह, पी.सी.एस, उप मंडल मैजिस्ट्रेट धारकलां, मिस. प्रीति यादव, आई.ए.एस, अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (विकास), पटियाला,  मोनिका यादव, आईएफऐस, जि़ला वन अफ़सर (वन्य जीवन) रूपनगर, रवजोत ग्रेवाल, आईपीएस, एसपी (ग्रामीण), एसएएस नगर, आदित्या उप्पल, आईएएस अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (जनरल), एस.बी.एस. नगर, मिस. विद्या सागरी, आईएफएस, मंडल वन अफ़सर, संगरूर और अमनप्रीत सिंह, अतिरिक्त सहायक कमिशनर (सिखलाई अधीन), तरन तारन को अपने जिलों के लिए सीपीटीओ के तौर पर नियुक्त किया गया है।

मुख्य सचिव ने कहा कि लैब में टैस्ट का नतीजा घोषित होते ही कोविड के हर पॉजिटिव मरीज़ का विवरण हासिल करने के साथ साथ सी.पी.टी.ओ. लेबों के साथ संपर्क यकीनी बनाऐंगे जिससे नतीजे हासिल करने में कोई भी देरी न होने दी जाये और कोविड के पॉजिटिव मरीज़ के साथ तुरंत संपर्क किया जाये। सी.पी.टी.ओ. यह भी यकीनी बनाऐंगे कि हर पॉजिटिव मरीज़ को आर.आर.टीज़ /स्वास्थ्य टीमों के द्वारा नज़दीकी अस्पताल में लाया जाये जिससे उनके स्वास्थ्य सम्बन्धी जांच की जा सके और उसके अनुसार इलाज करवाया जा सके।

यदि किसी व्यक्ति में कोविड -19 का कोई लक्षण नहीं है और वह किसी अन्य बीमारी से पीडि़त नहीं है तो उसे सी.सी.सी.(कोविड केयर सैंटर) या घरेलू एकांतवास भेजा जाता है (यदि वह स्वस्थ्य विभाग की तरफ से निर्धारित मापदंड पूरे करता है)। मरीज़ अपनी इच्छा अनुसार किसी प्रायवेट अस्पताल में दाखि़ल भी हो सकता है। यदि किसी व्यक्ति में कोविड -19 के लक्षण पाये जाते हैं और वह किसी अन्य बीमारी से भी पीडि़त है तो उसे लेवल-2 अस्पताल (सरकारी /प्राईवेट) में भेजा जाता है। यदि मरीज़ की हालत नाजुक है तो उसे तुरंत ही लेवल-3 अस्पताल (सरकारी / प्राईवेट) में भेजा जाता है।

सी.पी.टी.ओज़ की भूमिकाएं और जि़म्मेवारियों संबंधी बताते हुये श्रीमती विनी महाजन ने बताया कि सी.पी.टी.ओज़. को डिप्टी कमिशनर के सलाह से जाने बचाने के लिए ज़रुरी खर्च करने सम्बन्धी फ़ैसला लेने का अधिकार दिया जायेगा। उदाहरण के लिए ज़रूरत पडऩे पर प्राईवेट एंबुलेंस या प्राईवेट अस्पताल का प्रयोग करना। हालाँकि, आम तौर पर सिफऱ् सरकारी ऐंबूलैंसों और सरकारी अस्पतालों का प्रयोग किया जाऐगा।

उन्होंने कहा कि सी.पी.टी.ओ. के पास सी.सी.सी. (कोविड केयर सैंटर), सरकारी अस्पतालों और प्राईवेट अस्पतालों में बैंडों की उपलब्धता सम्बन्धी सूची के साथ साथ स्तर -3 के इलाज के लिए बैडों और वैंटीलेटरों की उपलब्धता की सूची होनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि सी.पी.टी.ओ. के पास प्रायवेट और सरकारी एंबुलेंस सेवाओं की पूरी जानकारी होनी चाहिए। सी.पी.टी.ओ. के पास किसी भी एमरजैंसी रैफरल /ज़रूरतों के लिए पड़ोसी जिलों में अपने हमरुतबा के साथ अच्छा तालमेल होना चाहिए।

मुख्य सचिव ने कहा कि सी.पी.टी.ओ. घरेलू एकांतवास में रहने वाले हर मरीज़ की रोज़मर्रा की टेली -मोनीटीरिंग करवाने को यकीनी बनाऐंगे। आर.आर.टीज़ को अक्सर और ज़रूरत पडऩे पर मरीज़ों को मिलना चाहिए। किसी भी एमरजैंसी रैफरल की स्थिति में जि़ला कंट्रोल रूम का टैलिफ़ोन नंबर मरीज़ के साथ सांझा करना चाहिए। ऐसे सभी रैफरल सही ढंग के साथ किये जाने चाहिएं और सी.पी.टी.ओ. को रिपोर्ट किये जाने चाहिएं।

आदेशों के अनुसार सी.पी.टी.ओ. लेवल-1/ लेवल -2/ लेवल -3/ मरीज़ की मौत होने के मामले में संस्कार सम्बन्धी दिए स्वास्थ्य प्रोटोकोल से अच्छी तरह अवगत होने चाहिएं। उनको डा. तलवाड़ की अध्यक्षता अधीन डाक्टरी माहिरों की मीटिंगों में बाकायदा शामिल होना चाहिए। सी.पी.टी.ओ. यह यकीनी बनाऐंगे कि किसी कोविड पॉजिटिव मरीज़ की मौत होने पर राज्य के प्रोटोकोलों के अनुसार जितनी जल्दी संभव हो सके संस्कार किया जाये।

Have something to say? Post your comment
 
More Punjab News
पंजाब सरकार द्वारा हरे चारे के आचार की गांठे बनाने वाली मशीन पर 40 प्रतिशत सब्सिडी दी जायेगी - तृप्त बाजवा ऐजूकेशन हब्ब के तौर पर विकसित होगा मोहाली कोविड-19 टेस्टिंग के लिए मोहाली की पंजाब बायोटैक्रोलॉजी इनक्युबेटर वायरल डायग्नोस्टिक लैबोरेट्री का उद्घाटन देश की राजधानी में सही कोविड प्रबंधों के लिए आम आदमी पार्टी द्वारा अपनी पीठ थपथपाना हास्यप्रद लगता है - सिद्धू पंजाब सरकार अन्य राज्यों के मुकाबले कोरोना का सार्वजनिक फैलाव रोकने में कहीं बेहतर - बलबीर सिद्धू पंजाब में निवेश को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल; वन विभाग की मंज़ूरियां मिलेंगी ऑनलाईन स्वास्थ्य विभाग में 2984 पदों के लिए 31 अगस्त तक आवेदन लिये जाएंगे - बलबीर सिंह सिद्धू पंजाब कैबिनेट द्वारा छह और विभागों के लिए चार वर्षीय रणनीतिक कार्य योजना को हरी झंडी नकली शराब के मामले में कोई भी राजनीतिज्ञ या सरकारी कर्मचारी बख्शा नहीं जायेगा-कैप्टन पंजाब जहरीली शराब कांड: 5 माफिया सहित 37 की गिरफ्तारी