Follow us on
Saturday, September 26, 2020
BREAKING NEWS
शोपियां मुठभेड़ में मारे गए तीन लोगों के डीएनए नमूने परिवार के सदस्यों से मिलेकोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए देश में करीब सात करोड़ जांच की गईबिहार विधानसभा चुनाव 28 अक्टूबर से तीन चरणों में होंगे, मतगणना 10 नवंबर को - चुनाव आयोगदशकों तक किसानों से ‘खोखले’ वादे करने वाले अब उन्हीं के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं - मोदीकिम जोंग उन ने दक्षिण कोरियाई अधिकारी की हत्या की घटना पर खेद प्रकट कियासनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ केकेआर के मैच में कार्तिक की कप्तानी पर नजरएच-1बी नौकरियों के लिए अपने लोगों को प्रशिक्षण देने पर 15 करोड़ डॉलर खर्च करेगा अमेरिकाअगर आप खाते हैं फ्रिज में रखे आटे की रोटियां, तो जरूर जान लें ये बात
Himachal

राष्ट्रीय आंदोलन के आदर्शों का पालन करें - राज्यपाल

September 10, 2020 07:42 AM

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय की अध्यक्षता में आज यहां हिमाचल प्रदेश नेशनल ला यूनिवर्सिटी शिमला द्वारा ‘‘स्वतंत्रता आंदोलन एवं राष्ट्रीय राजनीतिक विचार’’ विषय पर आनलाइन विचार-विमर्श कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर, राज्यपाल ने कहा कि भारत की स्वतंत्रता का विशेष ऐतिहासिक महत्व है क्योंकि इस इतिहास के फलस्वरूप हम राजनीतिक तौर पर आजाद हुए और हमने लोगों के दिल और दिमाग में राष्ट्रीयता का विचार पैदा करना शुरू किया। अगर ऐसा न होता तो लोग अपनी जाति, समुदाय व धर्म आदि के आधार पर ही सोचते रह जाते। हालांकि भारतीय होने का यह गौरव केवल एक भौगोलिक सीमा के ऊपर खड़ा था। उन्होंने कहा कि भारत का असली व पूरा गौरव इसकी सीमाओं में नहीं बल्कि इसकी सांस्कृतिक, आध्यात्मिक मूल्यों तथा सार्वभौमिकता में है। यहां के निवासी हजारों सालों से बिना किसी बड़े संघर्ष के रहते आ रहे हैं।

श्री दत्तात्रेय ने कहा कि भारत में लंबे अरसे से स्थिर समाजों का उदय हुआ और नतीजतन आध्यात्मिक प्रक्रियाएं विकसित हुई। इंसान बुनियादी रूप से क्या है, इस मुद्दे पर इस धरती की किसी भी दूसरी संस्कृति ने उतनी गहराई से विचार नहीं किया जैसा हमारे देश में किया गया। उन्होंने कहा कि भारत के नागरिकों को उन महान आदर्शों का ध्यान रखते हुए पालन करना चाहिए, जो हमारे राष्ट्रीय आन्दोलन की प्रेरणा का स्त्रोत बने।

उन्होंने कहा कि एक समाज का निर्माण और स्वतंत्रता, सम्मानता, अहिंसा, भाईचारा और विश्व-शांति के लिए एक संयुक्त राष्ट्र का निर्माण हमारे आदर्श हैं। यदि भारतीय नागरिक इन आदर्शों के प्रति सचेत और प्रतिबद्ध हो तो अलगाववादी प्रवृत्तियां कहीं भी जन्म नहीं ले सकती है। उन्होंने कहा कि आज संविधान स्थापना के 70वें वर्ष में हर एक नागरिक को ये सारे संकल्प दोहराने होंगे। देश को एक साथ आकर यह विश्वास करना होगा कि हमारे वर्तमान और भविष्य, वास्तव में हमारे गौरवशाली अतीत में ही विराजमान है।

इससे पूर्व हिमाचल प्रदेश राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय की उप-कुलपति प्रो. निष्ठा जसवाल ने राज्यपाल का स्वागत किया। पंजाब विश्वविद्यालय के राजनीतिक विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. आशुतोष कुमार तथा पूर्व प्राध्यापक देवी सरोही ने भी अपने विचार रखे।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री के प्रस्तावित दौरे के लिए आयोजित मीडिया प्लान बैठक की अध्यक्षता की प्रधानमंत्री का मनाली में होगा पारम्परिक तरीके से स्वागत - मुख्यमंत्री अटल टन्नल रोहतांग से बदलेगी लाहौल घाटी की तस्वीर - मुख्यमंत्री आईटीबीपी ईमानदारी और बहादुरी के साथ कर रही है राष्ट्र सेवा - मुख्यमंत्री लोक गीतों संस्कृति के संवर्धन में अहम भूमिका - मुख्यमंत्री प्रदेश में साहसिक पर्यटन को और अधिक सुरक्षित बनाया जाएगा - गोविन्द सिंह ठाकुर अध्यापकों से मार्गदर्शन के लिए स्वेच्छा से स्कूल आ सकेंगे 9वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी 12 रूटों पर 20 सितम्बर से रात्रि बस सेवा आरम्भ की जाएंगी - बिक्रम सिंह मुख्यमंत्री ने शिमला के मुख्य डाक घर में महिला शक्ति केन्द्र काउंटर का उद्घाटन किया राज्य सरकार ने बार खोलने की अनुमति प्रदान की