Follow us on
Friday, January 22, 2021
Business

एमएफआई के लिए पूंजी बफर बनाना, नकदी का प्रबंधन महत्वपूर्ण - रिजर्व बैंक

September 13, 2020 07:17 AM

मुंबई (भाषा) - कोविड-19 की वजह से सूक्ष्म वित्त संस्थानों (एमएफआई) के समक्ष वित्तीय जोखिम पैदा होने की संभावना है। ऐसे में एमएफआई के लिए पूंजी बफर बनाना और नकदी का प्रबंधन करना काफी महत्वपूर्ण है। रिजर्व बैंक के मासिक बुलेटिन में प्रकाशित एक लेख में यह बात कही गई है।

रिजर्व बैंक के निरीक्षण विभाग के स्निमरदीप सिंह द्वारा लिखे गए इस लेख में कहा गया है कि कोविड-19 की वजह से बेशक सूक्ष्म वित्त क्षेत्र के समक्ष नई चुनौतियां और उल्लेखनीय वित्तीय जोखिम पैदा हुआ है, लेकिन इसने उन्हें दीर्घावधि की जुझारू क्षमता विकसित करने का भी अवसर दिया है।

लेख में कहा गया है, ‘‘आगे चलकर पूंजी बफर बनाना और नकदी का प्रबंधन करना एमएफआई की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण होगा।’’ लेख में कोविड-19 को लंबे समय में सबसे बड़ा जोखिम करार दिया गया है।

लेख में कहा गया है कि आपूर्ति श्रृंखला तथा कारोबारी परिचालन में बाधा से आजीविका के नुकसान की संभावना काफी अधिक है। इससे अंतत: परिवारों की आय घटेगी।

इसमें कहा गया है कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी सूक्ष्म वित्त संस्थान (एनबीएफसी-एमएफआई) कम आय वर्ग के समूहों को बिना गारंटी वाला ऋण प्रदान करते हैं। इस परिदृश्य में उनके ऋण का जोखिम बढ़ेगा। लेख में कहा गया है कि कर्ज के भुगतान की दर में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जिससे एमएफआई के समक्ष नकदी का जोखिम पैदा हो गया है।

इसके अलावा एनबीएफसी-एमएफआई की क्रेडिट रेटिंग के भी नीचे आने की आशंका बनती है। ऐसे में उनकी नई पूंजी जुटाने की क्षमता प्रभावित होगी।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
मांग को तेज करने वाला, बुनियादी संरचना पर खर्च बढ़ाने वाला हो बजट - भारतीय उद्योग सरकार व्हाट्सऐप की गोपनीयता नीति में बदलावों पर विचार कर रही है - प्रसाद जीएसटी क्षतिपूर्ति के लिये वित्त मंत्रालय ने 6,000 रुपये की अगली किस्त जारी की डीजल, पेट्रोल पर रिकॉर्ड कर वृद्धि से चालू वित्त वर्ष में उत्पाद शुल्क संग्रह 48 प्रतिशत बढ़ा आर्थिक पुनरोद्धार, वित्तीय स्थिरता को समर्थन देने की जरूरत - शक्तिकान्त दास गूगल ने पूरा किया फिटबिट का 2.1 अरब डॉलर का अधिग्रहण ट्रम्प प्रशासन ने एच-1बी श्रमिकों के वेतन में बढ़ोतरी के लिए अंतिम नियमों की घोषणा की दिल्ली में पेट्रोल 84.45 रुपये प्रति लीटर के उच्चस्तर, मुंबई में 91 रुपये के पार कृषि बजट 2021-22: सरकार को कृषि क्षेत्र को अतिरिक्त धन, प्रोत्साहन देना चाहिए, विशेषज्ञों ने कहा फॉक्सवैगन फाइनेंस ने केयूडब्ल्यूवाई टेक्नालॉजी सर्विसेज में बहुलांश हिस्सेदारी हासिल की