Follow us on
Friday, January 22, 2021
Punjab

सुखबीर लोगों को स्पष्ट करे कि कृषि अध्यादेश किसान समर्थकीय हैं या किसान विरोधी - तृप्त बाजवा

September 14, 2020 06:46 AM

चंडीगढ़ - पंजाब के ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा ने शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल को कहा है कि वह इधर-उधर की बातें करने की बजाए राज्य के लोगों को यह स्पष्ट करें कि वह केंद्र सरकार की तरफ से कृषि सुधारों के नाम पर लाए गए अध्यादेशों को किसान समर्थकीय समझते हैं या किसान विरोधी। उन्होंने सुखबीर सिंह बादल को यह भी स्पष्ट करने के लिए कहा कि आगामी पार्लियामेंट सैशन के दौरान उनकी पार्टी इन अध्यादेशों के हक में होगी या विरोध करेगी।

बाजवा ने आज यहाँ जारी किए गए अपने एक प्रैस बयान में कहा है कि सुखबीर सिंह बादल अभी भी छलावे भरी बातें करके इन किसान विरोधी अध्यादेशों पर पंजाब के लोगों को गुमराह कर रहा है। उन्होंने कहा कि सुखबीर सिंह बादल को यह अच्छी तरह से पता है कि यह अध्यादेश पार्लियामेंट में इसी सैशन के दौरान और इसी रूप में पेश किए जाने हैं। इसलिए सुखबीर सिंह बादल को केंद्र सरकार को किसानों के अंदेशे दूर करने के बाद ही इन अध्यादेशों को पेश करने की अपील का ढोंग रचने की जगह यह फ़ैसला करना चाहिए कि उनकी पार्टी इनमें कोई संशोधन प्रस्ताव पेश करेगी या इनका विरोध करेगी और या फिर अपने पुराने स्टैंड के अनुसार इनको किसान हिमायती बताकर इसके हक में बोलेगी।

पंचायत मंत्री ने कहा कि दरअसल सुखबीर सिंह बादल को पहले दिन से ही यह स्पष्ट था कि यह अध्यादेश किसानों के लिए घातक साबित होने के साथ-साथ राज्यों के अधिकारों पर भी डाका मारते हैं। परन्तु वह अपनी पत्नी हरसिमरत कौर बादल की कुर्सी बचाने की ख़ातिर किसानों के हितों और पंजाब के साथ कोरी गद्दारी करके इन अध्यादेशों को बहुत ही ढीठ तरीके से किसानों के लिए लाभप्रद करार दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अपने झूठ को सत्य बनाने के लिए सुखबीर सिंह बादल ने अपने बुज़ुर्ग पिता प्रकाश सिंह बादल से अध्यादेशों के हक में बयान दिलवा कर उनका बचा खुचा सम्मान भी दाव पर लगा दिया।

बाजवा ने कहा कि शिरोमणि अकाली दल द्वारा अध्यादेशों पर अपनाए गए नए पैंतरे लोगों के गुस्से से डरते हुए और लोगों की आँखों में धूल झोंकने के लिए रचा गया एक नया ढोंग है। उन्होंने कहा कि सुखबीर सिंह बादल में निजी और पारिवारिक हितों से ऊपर उठकर पंजाब और किसानों के हितों के लिए लडऩे का मादा ही नहीं है।

पंचायत मंत्री ने कहा कि पंजाब के लोगों को किसी भी भ्रम में नहीं रहना चाहिए कि धारा 370 ख़त्म करने, राज्य का दर्जा ख़त्म करके जम्मू-कश्मीर को केंद्रीय शासित प्रदेश बनाने और सिटिजऩ अमेंडमैंट एक्ट जैसे लोग ख़ासकर के अल्पसंख्यक विरोधी कानूनों के हक में बोलने वाली शिरोमणि अकाली दल ने भाजपा का पिछलग्गू बनकर इन कृषि अध्यादेशों के भी हक में ही वोट डालनी है।

Have something to say? Post your comment
 
More Punjab News
पंजाब में 27 जनवरी से खुलेंगे प्राथमिक स्कूल पंजाब में बर्ड फ्लू का पहला मामला सामने आया, मृत बत्तख के नमूने संक्रमित मिले एन.आई.ए. को क्या यह किसान अलगाववादी और आतंकवादी लगते हैं?’ कैप्टन पंजाब की यूनिवर्सिटियां और कॉलेज 21 जनवरी से पूर्ण रूप में खोले जाएंगे कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाब में 1.74 लाख हैल्थकेयर वर्करों के लिए कोविड टीकाकरण मुहिम की शुरूआत पूरे राज्य में मनाया जायेगा राष्ट्रीय मतदाता दिवस - राजू उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्रों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी पंजाब हरियाणा में ठंड का प्रकोप जारी अगले वर्ष मार्च तक पंजाब के सभी ग्रामीण घरों को मिलेगी पानी की सप्लाई - रजि़या सुलताना कोविड -19 टीके का अभ्यास रहा कामयाब -बलबीर सिंह सिद्धू