Follow us on
Saturday, September 26, 2020
BREAKING NEWS
शोपियां मुठभेड़ में मारे गए तीन लोगों के डीएनए नमूने परिवार के सदस्यों से मिलेकोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए देश में करीब सात करोड़ जांच की गईबिहार विधानसभा चुनाव 28 अक्टूबर से तीन चरणों में होंगे, मतगणना 10 नवंबर को - चुनाव आयोगदशकों तक किसानों से ‘खोखले’ वादे करने वाले अब उन्हीं के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं - मोदीकिम जोंग उन ने दक्षिण कोरियाई अधिकारी की हत्या की घटना पर खेद प्रकट कियासनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ केकेआर के मैच में कार्तिक की कप्तानी पर नजरएच-1बी नौकरियों के लिए अपने लोगों को प्रशिक्षण देने पर 15 करोड़ डॉलर खर्च करेगा अमेरिकाअगर आप खाते हैं फ्रिज में रखे आटे की रोटियां, तो जरूर जान लें ये बात
Haryana

ई-संजीवनी ओपीडी के नाम से स्टे होम ओपीडी की शुरुआत - अनिल विज

September 16, 2020 07:06 AM

चंडीगढ़ - हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में ‘ई-संजीवनी ओपीडी’ के नाम से स्टे होम ओपीडी की शुरुआत की गई है। इससे राज्य के मरीज स्वयं को ई-संजीवनी पर पंजीकृत कर नि:शुल्क ऑनलाइन चिकित्सक परामर्श ले सकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों के फलस्वरूप अन्य बीमारियों के मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था, इसके दृष्टिगत केन्द्र सरकार ने ई-संजीवनी ओपीडी की शुरुआत की है। इसी सेवा को हरियाणा में भी शुरू कर दिया गया है, जिसके तहत अभी तक करीब एक हजार से अधिक मरीजों ने इससे लाभ उठाया है। राज्य के सभी मरीजों को यह सुविधा पूरी तरह से फ्री दी जा रही है। इसके लिए मरीजों को ई-संजीवनी ओपीडी ऐप को अपने मोबाइल में डाउनलोड करना होगा, जिसके बाद टोकन नम्बर जनरेट होगा।

विज ने बताया कि सरकार ने प्रत्येक मरीज को उनके घर पर ही चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए कृतसंकल्प है। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु राज्य का कोई भी मरीज अपने स्थान से ही वीडियो कॉल या लाइव चैट के माध्यम से चिकित्सक के साथ जुड़ सकता है। इसके लिए लैपटॉप, डेस्कटॉप या एंड्रॉइड स्मार्ट फोन का उपयोग कर डॉक्टर से ऑनलाइन परामर्श प्राप्त करने की सुविधा होगी। इस प्लेटफॉर्म पर मरीज अपनी सभी रिपोर्ट को अपलोड कर डॉक्टर से बीमारी और उसके उपचार संबंधी जानकारी ले सकता है। इसके बाद डॉक्टर अपने मरीज को लैब टेस्ट या दवाई की पर्ची भी ऑनलाइन उपलब्ध करवाएगा, जो चिकित्सा के लिए हरियाणा की सभी अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए मान्य होगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण लोगों को कई प्रकार की शारीरिक एवं मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए इन दिक्कतों से संबंधित यदि समय पर काउंसलिंग व उपचार न किया जाए तो बीमारी बढऩे की सम्भावना बनी रहती है, जिनको दूर करने में स्टे होम ओपीडी की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। उन्होंने कहा कि मरीजों के लिए यह सुविधा प्रत्येक सोमवार से शनिवार को सुबह 10.00 से 1.00 बजे तथा सांय 3.00 से 5.00 बजे तक रहेगी। इसके लिए चिकित्सकों एवं मनोवैज्ञानिकों की एक योग्य टीम कार्य कर रही है।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
अनिल विज ने हरियाणा के लिए जारी किया संशोधित होम आइसोलेशन प्रोटोकॉल साल के अंत तक प्रदेश में कोई भी फाटक युक्त रेलवे मार्ग नहीं रहने दिया जाएगा - दुष्यंत मुस्कान: हरियाणा पुलिस की एंटी ह्यूमन ट्रैफिक यूनिट की मेहनत रंग लाई सडक़ व रेल तंत्र कनेक्टिविटी में निरन्तर सुधार को चरणबद्घ तरीके से मूर्त रूप देने की शुरुआत कृषि संबंधित तीनों विधेयक पूरी तरह किसान हित में हैं - बनवारी लाल एमएसपी पर आंच आई तो छोड़ दूंगा मंत्री पद - दुष्यंत चौटाला लाशों की राजनीति न करे कांग्रेस - जेपी दलाल मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किसानों से आंदोलन छोडक़र बातचीत के लिए आगे आने की अपील की हरियाणा में आज किसान करेंगे रोड जाम, खट्टर सरकार ने भी हर स्थिति से निपटने को कसी कमर बाजरा किसानों के हित में अहम निर्णय लेते हुए ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर पंजीकरण 20 सितंबर तक