Follow us on
Monday, November 30, 2020
BREAKING NEWS
किसानों को दिल्ली पहुंचने से रोकने के प्रयास को लेकर राहुल और प्रियंका ने सरकार पर निशाना साधाप्रधानमंत्री ने जाइडस कैडिला के संयंत्र में कोविड-19 के टीके के विकास कार्य की समीक्षा कीजींद : किसानों का दिल्ली की ओर कूच करना जारीभारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 93,51,109 हुएसामाजिक समारोह में लोगों की संख्या को घटाकर 50 करने का निर्णय लियाकिसान के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम किया जा रहा है बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय - मनोहर लालऑफलाइन इंटर-स्कूल बेस्ट ऑउट ऑफ वेस्ट प्रतियोगिता आयोजितगुरु नानक देव की 551वीं जयंती पर 600 से ज्यादा भारतीय सिख श्रद्धालु पाकिस्तान पहुंचे
Politics

बिना ज्ञान के नौकरियां देने का वादा करने वाले कहीं अपना धंधा न चालू कर दें - नीतीश

October 20, 2020 07:04 AM
फोटो गूगल इमेज से साभार

रफीगंज (भाषा) - राजद नेता तेजस्वी यादव के 10 लाख नौकरियां देने के वादे पर तंज करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि कुछ लोग बिना ज्ञान के ही नौकरियां देने का वादा कर रहे हैं, लेकिन कहीं ऐसा न हो कि वे नौकरी देने के नाम पर अपना अलग ही काम धंधा चालू कर दें।

गया के शेरघाटी और औरंगाबाद के रफीगंज में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा, ‘‘कुछ लोगों को कोई ज्ञान नहीं है और दावा कर रहे हैं कि इनती नौकरियां देंगे। पैसा कहां से आएगा ? ’’ उन्होंने कहा, ‘‘कहीं ऐसा न हो कि वे नौकरी देने के नाम पर अपना अलग ही काम धंधा चालू कर लें। कहने से कुछ होता है जी, करने का कुछ अनुभव हो, कुछ समझ हो तब ना।’’

कुमार ने राजद नेता पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि 15 साल में जब मौका मिला था तब कितने लोगों को नौकरियां दी थी ? उन्होंने कहा, ‘‘हमने तो छह लाख से अधिक लोगों को नौकरियां दीं और काफी संख्या में लोगों को काम का अवसर दिया।’’

गौरतलब है कि विपक्षी महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने कहा है कि उनकी सरकार बनते ही कैबिनेट की पहली बैठक में युवाओं को 10 लाख रोजगार देने पर मुहर लगेगी।

वहीं, राजद प्रमुख लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुए नीतीश ने कहा, ‘‘15 साल में महिलाओं के लिये क्या किया ? पति जेल में गए तो पत्नी को बैठा दिया, लेकिन महिलाओं के लिए क्या किया?’’ कुमार ने कहा, ‘‘हमें मौका मिला तो हमने आरक्षण दिया। महिलाएं जनप्रतिनिधि बनीं।’’

राजद की पूर्ववर्ती सरकार के दौरान कानून एवं व्यवस्था की स्थिति का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले बिहार में चल रहे अपहरण उद्योग के चलते काफी व्यापारी और डॉक्टर बिहार छोड़ के भाग गए थे और दो पैसा कमाने के लिए लोग राज्य छोड़ने पर मजबूर हो गए थे।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के आते ही सब बदल गया, सबके विकास के लिए कार्य किये गए, सबको सुरक्षा मिली। राजद की पूर्ववर्ती सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पहले न सड़क थी, न बिजली थी और जंगलराज था ।

उन्होंने कहा, ‘‘आज हर घर में बिजली है, हर गांव तक सड़क है और बिहार में कानून का राज है।’’ कुमार ने कहा, ‘‘हमने शुरू में ही साफ कर दिया था कि हम अपराध, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे।’’ कोरोना वायरस से मुकाबला करने के सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए नीतीश ने कहा कि कोरोना को लेकर थोड़ी परिस्थितियां अलग हैं।

उन्होंने कहा कि बिहार में उसके प्रसार की रोकथाम के लिए कठिन से कठिन कार्य हुए हैं तथा जांच के मामले में तो राज्य अभी देश में भी आगे चल रहा है। राज्य में राजग की फिर से सरकार बनने पर किये जाने वाले कार्यों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हमने तय कर लिया है कि इस बार मौका दीजियेगा तो हर खेत तक सिंचाई के लिये पानी पहुंचा देंगे। कहीं भी सूखा नहीं रहने देंगे। हर घर बिजली तो पहुंच गयी है, अब हर गांव में सोलर लाइट लगाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब मौका मिलेगा तो 8-10 पंचायत पर पशु अस्पताल भी बनवाएंगे, दवा का खर्च भी राज्य सरकार देगी। उन्होंने राजग को विजयी बनाने की अपील करते हुए लोगों से कहा कि फिलहाल सिर्फ आपको ये ख्याल रखना है कि आपका विकास न रुके और आप विकास की मुख्यधारा से जुड़े रहें ।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
प्रधानमंत्री ने जाइडस कैडिला के संयंत्र में कोविड-19 के टीके के विकास कार्य की समीक्षा की बिहार विधानसभा में बिफरे नीतीश कुमार भाजपा सरकारें समता मूलक समाज के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध - नड्डा पश्चिम बंगाल दूसरा कश्मीर बन गया है - भाजपा टीआरपी घोटाला: मुंबई पुलिस ने दाखिल किया आरोप-पत्र नीतीश कुमार को पहले लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने दें, फिर हम सोचेंगे - राउत राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी में 57 प्रशिक्षु कोविड-19 से पीड़ित अदालत ने पूछा कि क्या अकबर, रमानी के बीच मानहानि मामले में समझौते की कोई गुंजाइश है? अदालत ने भ्रष्टाचार मामले में जांच के आदेश के खिलाफ मेनका की अर्जी पर सीबीआई से जवाब मांगा सपा से गठबंधन हमारी प्राथमिकता - शिवपाल